एमडी रैपिड पहुंचे प्रोजेक्ट साइट

एमडी रैपिड पहुंचे प्रोजेक्ट साइट

एमडी रैपिड पहुंचे प्रोजेक्ट साइट, गाजियाबाद। आरआरटीएस कॉरिडोर के प्रायोरिटी सेक्शन में तेजी से किये जा रहे निर्माण कार्यों का प्रबंध निदेशक/एनसीआरटीसी ने गया। निरीक्षण 17 किलो मीटर लंबे प्रायोरिटी सेक्शन के 5 स्टेशनों और लगभग पूरे हो चुके वायाडक्ट और उनपर चल रहे विभिन्न सिस्टम को लगाने के कार्यो पर केंद्रित रहा। साहिबाबाद स्टेशन पर  सिविल निर्माण लगभग समाप्त हो गया है और स्टेशन की छत और अन्य फिनिशिंग के कार्य पूरे किए जा रहे हैं।  एमडी  अन्य अधिकारियों के साथ पहले से ही निर्मित RRTS वायाडक्ट के ऊपर से चलते हुए गाज़ियाबाद स्टेशन पहुँचे। उन्होंने गाज़ियाबाद स्टेशन के निर्माण का मुआएना किया जहां हाल ही में एनसीआरटीसी ने गाज़ियाबाद स्टेशन के पास मेट्रो लाइन और सड़क मार्ग पुल को पार करने के लिए कॉरिडोर के सबसे लंबे स्टील स्पैन को सफलतापूर्वक स्थापित किया था। उन्होंने  गुलधर की ओर निर्मित वायडक्ट के ऊपर चलते हुए सम्पूर्ण निर्माण कार्यो का जायज़ा लिया। यहाँ से  वायाडक्ट पर चलते हुए दुहाई स्टेशन तक निर्मित वायाडक्ट और उसपर चल रहे निर्माण कार्यों का निरीक्षण किया और संबंधित इंजीनियरों से बातचीत की। उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि हमारे डिजाइन और सुविधाएं सभी बिंदुओं पर हमेशा यात्री केंद्रित होनी चाहिए। उन्होंने उनसे निर्माण कार्यों की जटिलताओं और चुनौतियों के विषय में भी जानकारी प्राप्त की और इससे निपटने की दिशा में उनका मार्गदर्शन किया। उन्होंने दुहाई स्टेशन के निर्माण का भी ब्यौरा लिया जहाँ वर्तमान में स्टेशन के प्लेटफॉर्म लेवल के निर्माण के साथ-साथ ट्रैक बिछाने का प्रगति पर है जिसके जल्द ही पूरा होने की संभावना है। वहाँ से अधिकारीगण वायाडक्ट निर्माण कार्यों का जायज़ा लेते हुए दुहाई डिपो पहुँचे। यहाँ सावली स्थित मैन्यूफैक्चरिंग प्लांट से पहला आरआरटीएस ट्रेनसेट हाल ही में सड़क मार्ग द्वारा लाया गया है। उन्होंने इतनी तेज़ धूप और गर्मी में काम कर रहे मज़दूरों एवं इंजीनियरों का उत्साहवर्धन किया और उनके अथक परिश्रम एवं निष्ठापूर्ण प्रयासों के लिए उनकी प्रशंसा की। साथ ही उन्होंने अधिकारियों को उचित कार्य वातावरण और अधिक से अधिक सुविधा प्रदान करने की हिदायत भी दी।

@Back Home

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *